सोनिया गांड मरवाती है

(Sonia Gaand Marwati hai)

This story is part of a series:

हेलो दोस्तो,
हैरी का नमस्कार।
मै हैरी पंजाब से हुँ आप सब तो जानते ही होंगे।
मेरी पिछली कहानी मनोरमा और शिवाली काफी पसंद की गई, उसकी तारीफ़ में मुझे बहुत सारे मेल मिले, बहुत बहुत शुक्रिया !

उन में से एक मेल मिला जो लुधियाना से था, उसमें लिखा था- मैं सोनिया, उम्र 28 साल, मुझे आपका रेफरेंस जसप्रीत ने दिया है, आपसे कुछ काम है।
मैंने लिखा- ठीक है, कहिये?उसने लिखा- ऐसे नहीं ! आप मुझे अपना नंबर दीजिये !

मैंने अपना नंबर उसे दिया। उसने मुझे रात को करीब 11 बजे फ़ोन किया, कहने लगी- मुझे आपकी हेल्प चाहिए। मेरे पति सेल्स मैंनेजर हैं, अक्सर घर से बाहर रहते हैं, महीने में 3-4 दिन ही घर में होते हैं। मुझे आपकी जरुरत है, क्या आप मेरी मदद कर सकते हैं?
मैंने कहा- ठीक है, कहाँ मिलना है, किसी होटल में या कहीं और?
सोनिया ने कहा- होटल ठीक नहीं रहेगा, आप मेरे घर पर आ जाते तो अच्छा होता।
मैंने कहा- और घर के लोगों को क्या बोलोगी आप?
सोनिया में कहा- उसकी फिक्र आप छोड़ दो, मेरे घर में मैं और मेरी बेटी जो अभी सिर्फ चार साल की है, और कोई नहीं है।
मैंने कहा- ठीक है, कब आना है?
उसने कहा- कल शाम को आ जाओ।

मैं शाम को करीब सात बजे उसके बताये पते पर पहुँच गया और वहाँ जाकर मैंने सोनिया को फ़ोन किया।
सोनिया ने कहा- बस दो मिनट रुको, मैं आपके सामने मॉल में हुँ, अभी आती हुँ।

फ़ोन में बात करते करते ही वो मॉल के बाहर आ गई तो मैं समझ गया कि यही सोनिया है। मैंने हाथ से इशारा किया, वो मेरे पास आई और हाथ मिलाया, फिर हम दोनों उसके घर गये !
घर में कोई नहीं था, मैंने पूछा- आपकी बेटी कहाँ है?
वो कहने लगी- मैंने आज उसे मम्मी के पास छोड़ दिया।
वो बोली- आप क्या लोगे ठंडा या गर्म?
मैंने कहा- नहीं, कुछ नहीं ! शुक्रिया !

वो मेरे लिए ठंडा ले आई, साथ बैठ कर बात करने लगी। सोनिया ने पूछा- आप जसप्रीत को कैसे जानते हो?
मैंने कहा- दोस्त है मेरी !
फिर मैंने सोनिया से पूछा- तुम कैसे जानती हो जसप्रीत को?

तो वो बोलने लगी- मेरी भी सहेली है, बहुत बातें होती हैं नेट पर हमारी ! एक दिन बात करते करते मैंने अपनी परेशानी जसप्रीत को बताई तो वो बोली कि एक तरीका है मेरे पास और उसने आपका ईमेल दे दिया।
मैंने सोनिया से पूछा- क्या इससे पहले भी आपने कॉल बॉय को कभी बुलाया है?
तो उसने कहा- नहीं यार ! वैसे मैं अपने पति से संतुष्ट हूँ पर क्या करूँ, वो अक्सर बाहर ही रहते हैं तो आपको बुलाना पड़ा। अगर वो घर में रहते तो मुझे आपकी जरूरत ही नहीं पड़ती।
मैंने कहा- ओके ओके !

सोनिया कहने लगी- वैसे एक दो लड़के हैं जो मुझ पे फ़िदा हैं पर ये सब मोहल्ले में करना अच्छा नहीं है, आजकल के लड़कों का क्या, किसी-किसी को बता सकते हैं। इसलिए मैंने आपको सही समझ कर बुलाया।
सोनिया सांवले रंग की थी पर नैन-नक्श बहुत अच्छे थे, उसकी छाती 36 की होगी, कमर 32 की और चूतड़ 36 के ! मस्त औरत थी !
बातें करते करते सोनिया कभी कभी मेरी जांघ पर हाथ फेर देती।
फिर मैंने कहा- सोनिया, अन्दर चलते हैं।
सोनिया ने कहा- अभी नहीं, रुको, मैंने खाने का आर्डर दिया है, ना जाने कब जा जाये वो, फिर मूड ख़राब हो जाएगा।

Comments

Scroll To Top