प्रीत की कहानी

प्रेषक : मनदीप सिंह

मेरा नाम दीप है। मैं जालंधर का रहने वाला हूँ। आज मैं आपको अपनी सच्ची कहानी बताउंगा। इस कहानी में मैं हीरो हूँ और मेरी गर्लफ्रेंड प्रीत हिरोइन है।

बात तब की है जब मैं इंजीनियरिंग कर रहा था और वो मास्टर की डिग्री कर रही थी। हमारा चक्कर पहले एक साल तक चला और मैंने उसे छुआ तक नहीं, चुम्बन तक नहीं था किया। पर मेरे मन में कभी भी उसके बारे में गलत ख्याल तक नहीं आया था जब तक मैंने उसे छुआ नहीं।

एक बार गलती से मेरी कोहनी उसके मम्मे में लग गई। बस फिर क्या था, मेरे तो पूरे बदन मैं आग लग गई और फिर मैं बहाने बहाने से उसे स्पर्श करता। मैं उसे चोदने के बहाने सोचने लगा।

एक बात बता दूं मैं …. उसकी फ़ीगर थी- 34-30-36, क्या गज़ब की सुन्दर थी वो। जब वो चलती थी तो 71-72 होता था। क्या गज़ब के उभार थे ! उसकी गांड क्या गज़ब ढाती थी।

एक दिन मैंने उसे अपने जन्मदिन के बहाने अपने घर बुला लिया। वह आई और मेरे लिए एक सुंदर सी कमीज़ लाई। उस दिन उसने कसी हुई जीन पहनी हुई थी और कसा हुआ टॉप पहना हुआ था, जिसमें से उसके उभार एकदम मस्त लग रहे थे। वो आई, मुझे जन्मदिन की बधाई दी और हम कमरे में जाकर बैठ गए। मेरे मम्मी ने हमे चाय दी और खुद दूसरे कमरे में चली गई।

हम पास-पास ही बैठे थे। चाय पीकर मैंने उसे बहाने से चूम लिया। उसने भी मुझे मना नहीं किया। फिर मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर लगा दिए।

क्या गर्म लड़की थी वो ! एकदम गर्म। जब उसने मुझे समूच किया, उसके होंठ एकदम गर्म थे। मेरा एक हाथ उसके वक्ष पर चला गया खुद-ब-खुद !

उसने मना नहीं किया किया, शायद मेरे जन्मदिन की वजह से। पूरे दो मिनट तक मैं उसे चूसता रहा और वो गर्म हो गई। उसने मुझे हटा दिया और जाने को कहने लगी।

मैंने उसे अगले दिन आने को मना लिया और जाने दिया।

अगले दिन मेरे घर पर कोई नहीं था, उसने कालज से बंक मारा और मेरे घर आ गई। मैंने उसे कमरे में बिठाया और चाय बना कर पिलाई। फिर हम बातें करने लगे।

बात बात में मैं उसके काफी करीब आ गया और उसे चूम लिया। फिर उसने भी मुझे किस किया। मेरी हिम्मत बढ़ गई। मैंने उसे समूच किया, पूरे दो मिनट तक मैं उसके गर्म होंठों को चूसता रहा। मेरा एक हाथ उसके स्तन दबाने लगा। एकदम सख्त थे उसके मम्मे। उसने मुझे कस के पकड़ लिया और थोड़ी सी मेरे ऊपर आ गई मैं समझ गया था कि वह गर्म हो रही है। मैंने उसकी कमीज़ के अन्दर से हाथ डाला और उसकी ब्रा से मम्मा पकड़ लिया। एकदम सख्त था, मैंने उसे कस कर दबाया तो वह तड़प उठी। उसके मुँह से अहहहः ऊउह्ह्ह की आवाज़ें आने लगी। जब मैं उसकी कमीज़ उतारने लगा तो वो कहने लगी- ऐसे नहीं, एक चादर ले आओ, मुझे शर्म आ रही है।

मैंने बेड से ही चादर निकाल ली। अब मैं और वो चादर के नीचे थे और मैं उसकी कमीज़ उतार रहा था। उसकी ब्रा में से उसके बूब्स क्या गज़ब थे। मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी और उसके मम्मे चूसने लगा। उसकी तो हालत खराब हो गई। वह तड़पने लगी।

Comments

Scroll To Top