इतनी जल्दी हो गया

प्रेषक : बॉय कूल

हेल्लो दोस्तो !

मेरा नाम विनीत है और मैं बहादुरगढ़ में रहता हूँ। मैंने अब तक की अंतर्वासना की सारी कहानियाँ पढ़ी हैं। आज मैं भी पहली बार आप सब को अपनी एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ। हमारे सामने वाले घर में एक परिवार रहता है, पति पत्नी और उनके ३ बच्चे।

सॉरी दोस्तो ! मैं अपने बारे में तो बताना भूल ही गया।

मैं २७ साल का ६ फ़ीट लंबा और ठीकठाक दिखने वाला लड़का हूं और मेरा लण्ड ९” लंबा और ३” मोटा है।

घर के सामने वाली आंटी का नाम ऋतू है। वैसे वो ज्यादा उमर की नहीं है, ३७ या ३८ की है। दिखने में वो थोड़ी मोटी है। उनका फिगर ३८-३८-४० है। मैं अक्सर उनके घर जाने के बहाने ढूंढता रहता हूं. क्योंकि मैं आंटी को बहुत पसंद करता हूँ।

उन के पति का प्रोपर्टी का काम करते हैं और वो ज्यादातर घर पे लेट आते हैं, हमेशा नशे में रहते हैं और कई बार तो आंटी की पिटाई भी करते हैं। जब वो आंटी को मारते हैं तो मेरा दिल करता है कि मैं उनकी जम के पिटाई करूँ।

एक दिन अंकल ने आंटी की जम के पिटाई की। अगले दिन जब अंकल घर से चले गए तो मैं उन के घर गया। आंटी लेटी हुई थी। वो हमेशा सलवार-कमीज़ पहनती हैं। जब मैं वह पहुँचा तो उनकी आँखे बंद थी और उन का कमीज़ उनके पेट के उपर तक उठा हुआ था। मैं वहाँ खड़ा थोड़ी देर तक उनको देखता रहा। थोड़ी देर बाद जब वो थोड़ा हिली तो मुझे उनकी कमर पर कुछ निशान दिखे। तब तक आंटी ने भी मुझे देख लिया था कि मैं उनको घूर रहा हूँ। उन्होंने झट से अपना कमीज़ नीचे कर लिया और पूछा- तुम कब आए?

मैंने कहा- बस थोडी देर हुई है, आप सो रही थी तो मैंने आप को उठाया नहीं, क्योंकि मैंने कल रात भी आप के घर से झगड़े की आवाजें सुनी थी।

यह बात सुन कर आंटी ने अपना सर नीचे कर लिया। फ़िर मैंने कहा- मैंने अभी आप की पीठ पर कुछ निशान देखे हैं।

तो वो खड़ी हो गई और बोली- कुछ नहीं है, वो तो बचपन से ही हैं।

तो मैंने पूछा- कैसे लगे थे?

तो वो थोड़ा सोचने लगी। तभी मैं बोला- ये बचपन के नहीं, कल रात के हैं।

उन्होंने फ़िर से कहा- नहीं बचपन के हैं !

मैंने कहा- दिखाओ, मैं देखना चाहता हूँ कि कब के हैं !

तो वो मना करने लगी, मैंने जबरदस्ती उनको पकड़ कर दूसरी तरफ़ घुमा दिया और उनका कमीज़ ऊपर उठाने लगा, वो मना करने लगी पर मैं कहा मानने वाला था बिना देखे !!

जब मैंने देखा तो अंकल ने उन्हें अपनी बैल्ट से मारा था।

मैंने पूछा- ये बैल्ट के हैं?

तो वो रोने लगी और मेरे गले लग गई। मुझे आंटी पर दया आ रही थी और अच्छा भी लग रहा था कि जिसे मैं इतने दिनों से अपनी बाहों में लेना चाहता था वो आज मेरी बाहों में थी चाहे किसी भी कारण से !

फ़िर मैंने आंटी को सोफे पर बिठाया और पूछा- यह क्यों हुआ?

तो वो और ज्यादा रोने लगी। मैं उनके पास बैठ गया और उनके चेहरे को पकड़ कर पूछने लगा तो वो बोली- क्या बताऊँ, यह तो रोज का काम है !

Comments

Scroll To Top