दीदी की बुर की खुजाई से ले कर चुदाई तक

प्रेषक : राहुल शर्मा

मैं राहुल, 32 साल, मैंने अंतर्वासना की लगभग सारी कहानियां पढ़ी हैं। खास कर मुझे अगम्यागमन कहानियां ज्यादा अच्छी लगती हैं। वैसे नेहा जी भी अच्छी लिखती हैं। अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ।

मैं जब छोटा था, तब दीदी मुझसे पीठ खुजलाने के लिए बोला करती थी। हम एक ही कमरे में एक ही बिस्तर पर सोया करते थे। फिर कुछ दिनों बाद दीदी मेर हाथ अपने चुच्ची की तरफ आगे बढ़ाने लगी और बोली- यहां खुजलाओ !

मुझे थोड़ा अजीब लगा पर मैं दीदी को मना नहीं कर पाता था क्योंकि दीदी मुझे बहुत प्यार करती थी। फिर दूसरे दिन रात को दीदी बोली- आज नीचे खुजला दे !

तो मैंने पूछा- कहां दीदी?

तो दीदी ने अपनी पैन्टी उतार दी और अपनी बुर की ओर इशारा करके बोली- यहां !

मैं बोला- दीदी, यहां से तो सु-सु करते हैं !

दीदी बोली- हां यहीं बहुत खुजली हो रही है।

फिर मैं दीदी की बुर खुजलाने लगा। फिर दीदी बोली- उसके अंदर जहां से सु-सु आता है ना, वहां उंगली डाल के खुजला ना !

फिर मैं दीदी की बुर में उंगली डाल के खुजलाने लगा। फिर इसी तरह कुछ दिन चलता रहा और फिर कुछ दिनों बाद दीदी मामा के घर आगे की पढ़ाई के लिये चली गई।

फिर हम कई बार बीच बीच में मिलते रहे, मामा के घर तो कभी हमारे घर, लेकिन कभी मौका नहीं मिला हमें वैसा मस्ती करने के लिये।

फिर दीदी अपनी पढाई पूरी करके लौटी तो दीदी 24 की हो गई थी। फिर कुछ दिनों बाद दीदी ने एक दिन मुझ से पूछा- बचपन की बातें याद हैं?

मैंने सर हिला के हां कहा, फिर दीदी बहुत खुश हो गई और मेरे गालों को चूम लिया। अब भी हम लोगों का कमरा एक ही था लेकिन पलंग अलग अलग था। और फिर जब रात को मैं अपने बिस्तर में बरमु्डा पहने गहरी नीन्द में सोया हुआ था तो दीदी ना जाने कब मेरे बिस्तर आ गई और मेरा लण्ड निकाल के सहलाने लगी, मुझे पता ही नहीं चला। मेरा लौड़ा अकड़ के जम के खड़ा हो गया था अचानक मेरा नीन्द खुली, देखा कि दीदी के हाथों में मेरा लौड़ा है और वो उसे कभी प्यार से देखती है, कभी सहलाती है और कभी मेरे झाटों से खेल रही है।

तो मैं दीदी से अचानक बोला- दीदी, ये क्या कर रही हो ?

दीदी बिल्कुल ही नहीं डरी और बोली- क्यों? तुझे अच्छा नहीं लग रहा है क्या ?

फिर मैं क्या बोलता, मुझे तो मज़ा ही आ रहा था, मैं यूं ही लेटा रहा, फिर मैंने दीदी को बोला- दीदी, इसे मुँह में ले लो ना !

दीदी बोली- क्यों? अभी तो तुझे बुरा लग रहा था ! अब कैसे मुँह में लेने के लिए बोल रहा है?

मैं बोला- दीदी प्लीज़ ले लो ना ! नाटक क्यों कर रही हो !

दीदी बोली- मुँह में क्या, सब जगह ले लूंगी, लेकिन पहले मेरे पूरे कपड़े खोल के जम के गरम तो करो !

फिर दीदी ने मेरा बरमुडा निकाल के अलग कर दिया, मैंने दीदी को बेड पे ही खड़ा कर दिया और दीदी का टी-शर्ट निकाला, फिर जीन्स !

अब दीदी ब्रा और पैन्टी में थी। दीदी पैन्टी-ब्रा में क्या गज़ब की मस्त लग रही थी, क्योंकि दीदी का फ़िगर 36 28 36 था, बड़े बड़े स्तन और गांड बड़ी बड़ी थी। दीदी को नंगी देख मैं बहुत खुश हो रहा था और सोच रहा था कि आज तो दीदी मस्त चुदाई करुंगा क्योंकि ये सब मैं जिन्दगी में पहली बार देख रहा था और इन सब चीज़ों के लिये कब से तड़प रहा था।

Comments

Scroll To Top