बुलबुल और उसकी बेटी सोना-1



प्रेषक : वरिंदर

सबसे पहले धन्यवाद सभी पाठकों का जिन्होंने मेरी हर कहानी को पढ़कर मुझे बहुत प्यार दिया।

आज मैं एक बार फिर से अपनी नई कहानी आपके सामने लेकर हाजिर हूँ। शायद भगवान् ने मुझे लण्ड लगाते वक़्त लिख दिया होगा कि यह नीचे जाकर औरतों को खुश करेगा, पहले पिंकी, सोनिया, छोटी साली, चाची सास, कामवाली की बेटी, यह सब तो मुझे शादी के बाद मिला, उससे पहले बता भी नहीं सकता कितनी औरतों को, जवान कमसिन लड़कियों को, भाभियों को चोद चुका था।

आज मैं आपके सामने अपनी जिंदगी की एक और ताजातरीन चुदाई का किस्सा ब्यान करने जा रहा हूँ।

मैं अपनी पत्नी मोना के साथ एक बहुत बड़ी पार्टी में गया था, वहाँ रंग बिरंगी तितलियाँ देख मेरा कच्छा तंबू बना रहा था। तभी मेरी नजर एक बेहद खूबसूरत औरत पर पड़ी जो सबसे अलग माल लग रही थी। वो क्रीम रंग की खूबसूरत साड़ी में वो मर्दों के दिल छलनी कर रही थी, मैं बार के पास बैठ जाम हाथ में पकड़ चुसकियाँ ले रहा था।

अचानक मेरी बीवी मोना उसके पास गई, कुछ बात हुई, दोनों गले मिलने लगी, मैं वहीं दूर बैठा देखता रहा, मेरी पत्नी इधर उधर नज़र दौड़ा रही थी, शायद मुझे उससे मिलवाने के लिए देख रही थी। मैं खुद ही जाम हाथ में लेकर उनके पास गया।

“बुलबुल ! ये हैं मेरे पति वरिंदर !”

उसका नाम बुलबुल था, उसने हाथ आगे बढ़ाया, हाथ मिलाते हुए उसका कोमल सा हाथ अपने हाथ में पाकर मैं खुश था, देख कर ही लग रहा था कि वो बेहद कमसिन औरत थी, नज़रों से नज़रें मिली।

“यह बुलबुल मेरी स्कूल से लेकर कॉलेज तक पक्की सहेली रही है, आज यह मुझे कई सालों बाद मिली है !”

“हाँ मोना ! तुम बहुत खुश हो ! पुरानी दोस्त जब कभी अचानक मिले तो कितनी ख़ुशी होती है, पूरी जिन्दगी दिमाग में फ़िल्म की रील की भान्ति चलने लगती है।

मैंने उसको अपनी मर्दानी आँखों से ऐसे देखा कि उसके दिल में उतर गया।

पार्टी चलती रही, पूरी पार्टी में मैं उसको देखता रहा, वो भी बीच बीच में चोर नज़रों से मुझे देख रही थी।

मोना ने उसका मोबाइल नंबर ले लिया। उसने बताया कि उसका पति फौज में है, वो अपनी बेटी सोना के साथ अकेली रहती है।

मोना बोली- यार, अब तुम अकेली नहीं हो, हम तेरे साथ वाले मोहल्ले में रहते हैं, हमारे घर ज़रूर आना !

तभी मोना का फ़ोन बजा और वो फ़ोन कॉल सुनने बाहर चली गई। मैं झट से उसके करीब गया- आप बहुत खूबसूरत दिख रही हैं ! पूरी पार्टी में आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं आप ! वो बहुत खुश हुई।

“लेट्स डांस !” मैं उसकी पतली सी कमर में हाथ डाल नाचने लगा।

तभी मोना आई तो मैं अलग हुआ।

उस रात घर लौट कर मैंने मोना की ज़बरदस्त चुदाई की, बुलबुल का चेहरा सामने रख मैंने अपनी बीवी मोना को हर तरीके से चोदा। वो भी हैरान थी कि आज मैं अलग जोश में मोना को रौंदा था।

कुछ दिन बीते, शनिवार की शाम थी, किसी ने घण्टी बजाई।

मैंने दरवाज़ा खोला, सामने बुलबुल थी, उसके साथ उसकी बेटी सोना थी, लग ही नहीं रहा था कि सोना उसकी बेटी होगी ! छोटी सी ही उम्र में उसका जिस्म भर चुका था।

आओ आओ ! बुलबुल जी, बैठो !

“मोना नहीं दिख रही घर में?”

“क्यूँ? हमें देख अच्छा नहीं लगा क्या?”

“ऐसी बात नहीं है वरिंदर !”

आज उसने बेहद कसी कमीज़ पहनी थी, वो तो सलवार कमीज़ में अप्सरा लग रही थी। उसकी बेटी सोना ने बेहद सेक्सी लाल रंग का टॉप पहना था, छोटी सी स्कर्ट, उसकी गोरी चिकनी जांघें देख मुझे सोनिया की कच्ची जवानी याद आ गई, मेरे सामने बैठी थी, मैं ताक में था कि वो टांगें खोले और देखूँ कि उसने किस रंग की चड्डी पहनी है।

तभी उसको फ़ोन आया, उठ कर गई वापस आकर बोली- माँ मैं टेनिस प्रेक्टिस के लिए निकल रही हूँ, वापिस जाते हुए आपको ले जाऊँगी, ठीक?

वो चली गई।

अब मेरा ध्यान सिर्फ बुलबुल के गुंदाज जिस्म पर था।

“एक बात कहूँ बुलबुल जी?”

“हाँ बोलो वरिंदर !”

“आप दिखने में कहीं से ऐसी नहीं लगती कि आप सोना की माँ हो ! बहनें लगती हो दोनों !”

“क्यूँ क्या ख़ास है मुझमें वरिंदर जी जो मोना में नहीं है?” “वो बात नहीं है ! बस आप अलग हो !”

उसने धीरे से मुझे देखा, अपना होंठ चबाती हुई बोली- आप बहुत ही ज्यादा शरारती हैं।”

मैं उठकर उसकी बगल में बैठ गया, उसका हाथ हाथों में लेकर बोला- तुम बेहद सेक्सी और खूबसूरत हो ! कसम से अगर मोना से पहले मिल जाती तो तुमसे शादी कर लेता !

“वाह आशिक हो गए हैं आप मेरे !” उसने बड़ी नशीली सी आवाज़ निकाली।

उसकी कमर में बाजू डाल अपने साथ सटाया- आशिक तो उस रात से हो गया था, बुलबुल मेरी जान …..!

वो उठी, टांगें फैलाती हुई मेरी गोदी में ऐसे बैठी मानो बाईक के पीछे बैठी हो ! मेरे गले में बाहें डालते हुए अपनी छाती का पूरा दबाव मेरी चौड़ी छाती पर डाला मेरे होंठों पर तपते होंठ लगाती हुई बोली- लो कर लो प्यार मुझे ! आपकी बाँहों में हूँ !

मेरा लण्ड खड़ा हो चुका था, उसको चुभन महसूस हुई, वो एकदम से उतरी, मेरे सामने नीचे गलीचे पर घुटनों के बल बैठ गई, मैं वहीं टांगें फैला कर बैठा रहा।

बुलबुल ने बेहद सेक्सी अंदाज़ में धीरे धीरे मेरी आँखों में आँखें डालते हुए मेरे लोअर के ऊपर से मेरे लण्ड को चूम लिया।

वो बिल्कुल एक नग्न फ़िल्म की अदाकारा की तरह कर रही थी, खड़ी हुई- इस सूट में मेरा जिस्म कसा हुआ है।

मैं समझ गया कि क्या चाहती है वो !

मैंने अपने हाथों से उसकी कमीज़ उतारी अंदर का नज़ारा देख मेरा लण्ड झटके खाने लगा। लाल रंग की ब्रा में गोरे गोरे मम्मे ! ब्रा भी ऐसी जिसने मुश्किल से उसके निपल ढके थे, मैं पागल हो गया, उसको दबोच गलीचे पर ही लिटा पागलों की तरह उसके मम्मे दबाने, सहलाने, चूसने लगा- हाय मेरी बुलबुल ! क्या जवानी है तेरी ! मार डाला तेरी ऐसी फिगर ने !

“सब्र करो राजा, तुम्हारे लिए ही इनको आजादी दी है !” अपने दोनों मम्मों को नीचे से हाथ का आसरा देते हुए उठा कर दबाने लगी, साथ में अपने गुलाबी होंठों पर जुबान फेर फेर मेरा सीना छलनी छलनी करे जा रही थी वो !

“बुलबुल, कमाल की हसीना हो तुम !”

“स्कूल से लेकर कॉलेज तक लड़कों की जुबां पर सिर्फ एक नाम रहता था- हाय मेरी बुलबुल ! यही कहते थे !”

मैंने उसके चुचूक को मुँह में लेकर चूसा तो वो तड़पने लगी, मस्ती से आंखें मूंदने लगी।

जी भर कर मैंने उसको चूसा, खूब दबाया, रूई जैसे मुलायम उसके दोनों मम्मों को मसल कर रख दिया, सोचा- वरिंदर, क्या किस्मत लेकर पैदा हुआ है !

उसने मेरा लण्ड पकड़ लिया, मुझे दुबारा सोफे पर बिठा दिया, प्यार से मेरी टांगें खुलवा ली, खुद गलीचे पर बैठकर मेरे लण्ड को चूसने लगी- माय गॉड ! यह कितना बड़ा है ! हाय मोना की किस्मत से मुझे जलन होने लगी है आपके इसको देख कर ! काश मेरे पति की भी लुल्ली की जगह ऐसा मोटा और बड़ा सा लण्ड लगा होता तो मुझे भी बाहर मुँह न मारना पड़ता मेरे राजा !

“क्यूँ? क्या हुआ? सुना है फौजी का लण्ड बहुत तगड़ा होता है !”

“ख़ाक है उसका ! अगर मैं उनके लण्ड से चुदाई से पहले कहीं दो तीन मिनट खेल लूँ तो उसका वहीं झड़ जाए !”

“उसका क्या कसूर? तेरा जिस्म ही चलती फिरती आग है ! अब तुम हमारे करीब आ गई हो, पूरी-पूरी संतुष्टि मिलेगी ! वैसे यह सोना तेरे खसम की औलाद है या किसी बाहर वाले की?”

“आप भी ना ! मुझे अब मजे लेने दो ! अब मत बोलना बीच में !” उसने पागलों की तरह मेरा लण्ड थूक थूक कर गीला कर दिया उसकी लार को चाटने लगी, फिर अपने चुचूकों से लण्ड रगड़ने लगी।

मेरा लुल्ला फड़फड़ाने लगा था, अचानक सोना की गोरी जांघें और टांगें आँखों के सामने घूमने लगी, माँ ऐसी है तो बेटी कैसी होगी ! यह ढलती उम्र में इतनी ज़बरदस्त है, सोना तो अभी जवानी में कदम रख रही है ! सोचने लगा कि मेरा लण्ड वो नहीं सोना चूस रही है !”

“कहाँ खो गए जीजा जी?” उसने मुँह से लण्ड निकालते हुए पूछा।

“कहीं नहीं ! तेरी इस मस्त चुसाई को देख रहा हूँ ! काश मोना भी लण्ड चूसने में विश्वास रखती होती !”

“क्या? मोना लण्ड नहीं चूसती? यह कैसे? मुझे याद है जब स्कूल के बाद वो मेरे घर आती थी, मैं अपने भाई की छुपाई ब्लू फिल्म निकाल कर उसे दिखाती, उसको लण्ड चूसने वाला दृश्य सबसे ज्यादा पसंद आता था !”

“क्या?” मेरा माथा ठनका, वो भी तो उसी परिवार की लड़की है जिसकी सभी औरतें चुदक्कड़ हैं ! लेकिन मैंने इस सोच को परे रखते हुए बुलबुल की जवानी में ध्यान दिया और उसको उठाकर अपने कमरे में ले जाकर बिस्तर में पटका, उसको पूरी को नंगी कर दिया।

पतली सी कमर थी, गाण्ड कितनी गोल उभरी हुई ! गाण्ड चुदवा चुदवा पिछवाड़ा भारी हो गया था बुलबुल का !

मैंने उसकी टांगें उठा उसकी चिकनी चूत को चूमा और फिर अपना लण्ड घुसा दिया।

“हाय मेरे राजा ! कितना मजेदार है ! पूरा लण्ड घुसा !”

मैंने बुलबुल की चुदाई की, कई तरह से उसको चोदा, उसको जब मेरा झड़ने वाला था तो वो बोली- मेरे मुँह में घुसा दो !

उसने मेरा पूरा लण्ड निचोड़ लिया, एक बूँद बेकार नहीं जाने दी।

उस दिन के बाद बुलबुल मोना की गैरमौजूदगी में आती और चुदवाती। मैं भी उसके घर आने-जाने लगा। मेरी नजर अब सोना पर थी।

जल्दी लिखूँगा कि कैसे मैंने उसको शीशे में उतारा।

[email protected]

Download PDF पीडीएफ प्रारूप में इस कहानी को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें



comments powered by Disqus