^ Back to Top




फिर चुदी अनीता

प्रेषिका : श्रेया आहूजा

दोस्तो आज मैंने फिर अपनी नौकरानी को चोदा जिसका जिक्र मैं आपसे करने जा रहा हूँ !

मैंने अपने पिछले कहानी

सरिता की चुदाई

में सरिता की चूत फाड़ी थी अब बारी मेरी दूसरी नौकरनी अनीता की थी !

उम्र में मुझसे पांच साल बड़ी रही होगी लेकिन बदन मदमस्त ! ब्लाउज से बाहर झांकते हुए मम्मे, गोरा पेट और लम्बा कद !

जब भी मौका मिले मैं उसके गांड पर हाथ फेर दिया करता, बहाने से उसके पेट या बाहें छू लिया करता !

उसे सब मालूम था बस तलाश थी तो मौके की ...

एक दिन जब घर पर कोई नहीं था मैंने उसे अपना कमरा साफ करने बुलाया और फिर दरवाज़ा बंद कर बिस्तर पर बैठ गया!

उसे मैंने पास बुलाया और उसके बदन को यहाँ-वहाँ छूने लगा।

उसने तभी मेरी पप्पी ले ली !

गंवार थी, स्मूच करने का कहाँ पता था !

मैंने अपना लंड निकाला और चूसने को कहा..

बेचारी बस लगी चाटने !

मैंने उसकी साड़ी खोलकर जब पैंटी नीचे की तो वो शरमा गई और कहने लगी- बाबूजी, मैंने झांटे नहीं बनाई ..

मैंने कहा- अरे, बस मुझे कौन सा तेरी चूत चाटनी है ..

टांगें फैलाई और दे दनादन चोदने लगा !

यह भी भूल गया कि कंडोम ज़रूरी है !

उसकी चूत में मेरा वीर्य बह गया !

हम दोनों बहुत देर तक नंगे पड़े रहे बिस्तर पर !

फिर कुछ देर बाद मेरा लंड खड़ा हो गया, वो समझ गई और घोड़ी बन कर चुदवाने के लिए झुक गई ! मैं दंग रह गया कि ऐसे गंवार भी इस तरह सेक्स करते हैं !

मेरी तो चांदनी थी, मैंने उसकी गोल गोल गांड को खूब मसला फिर छेद में अपने भाला भौंक दिया !

चपक चपक की आवाज़ के बाद मैंने अपना उजला वीर्य उसकी गोरी कमर पर बहा दिया और मैं बिस्तर पर ढेर हो गया !

आह दोस्तो, नौकरानी के साथ सेक्स करने का और ही मज़ा है ...

अब मम्मी ने नई नौकरानी रखी है, देखो क्या मौका बने !

तब तक के लिए इजाज़त दीजिये !

[email protected]

प्रकाशित: बुधवार 14 सितंबर 2011 6:00 pm

 

PDF पीडीएफ प्रारूप में इस कहानी को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

नवीनतम कथाएँ