^ Back to Top




कुवैत में पाकिस्तानी लड़की के साथ

प्रेषक : अमन खान

मेरी उमर 26 साल है । मैं एक अमेरिकन कंपनी में क़तर में काम करता था। अब मेरी पोस्टिंग अब यहाँ कुवैत में हो गई है।

कुवैत में ऑफिस के पहले दिन मैं सबसे मिला लेकिन वहाँ पर एक लड़की थी, एकदम गोरी, बदन ऐसा कि दिल करे अभी उसे चोद दे।

जब लंच टाइम हुआ तो उसने मुझे कहा- आप भी खाना खा लो !

तो मैंने उसके साथ खूब बातें की और मैंने उसको पूछा- तुम कहाँ से हो ?

उसने बताया कि वो पाकिस्तान से है, उसकी उमर 26 साल है और नाम सदफ खान !

वो अपने परिवार के साथ कुवैत में रहती थी।

दोस्तो, अब हम कहानी पर आते है कि मैंने उसे कैसे चोद दिया।

उस दिन शुक्रवार था, मैं नेट पर बैठा हुआ था तू वो (सदफ) भी ऑनलाइन आ गई। उसने मुझसे पूछा- तुम कहीं घूमने नहीं गए? आज छुट्टी है, कहीं बाहर घूमने चले जाते ! वैसे भी तुम नए हो कुवैत नहीं देखा तुमने।

मैंने उसे कहा- मेरा कोई दोस्त नहीं है यहाँ पर ! नई जगह में मैं किसी को जानता नहीं !

तो उसने कहा- मैं हूँ ना आपकी दोस्त ! आप मेरे साथ चलो घूमने !

मैंने उसे हाँ कर दी। उसने मुझे एक माल में बुलया और फटाफट तैयार होकर मैं वहाँ चला गया। हम लोग शाम को चार बजे तक घूमे।

फिर उसने कहा- आज भारत-पाकिस्तान का मैच है,मुझे बहुत शौक है मैच देखने का !

तो मैंने कहा- मेरे कमरे पर चलते हैं, वहाँ बैठ कर मैच देखेंगे।

वह राज़ी हो हो गई। मेरा कमरा मुझे कंपनी की तरफ से मिला था। हम वहाँ पहुंच कर मैच देखने लगे।

उसने अचानक चैनल बदल दिया तो उसमें एक लड़का लड़की को चूम रहा था और फिर उसके कपड़े उतार कर उसे चोदने लगा। वो यह देख कर कुछ शरमा सी गई और मेरी तरफ देखने लगी।

मैंने कहा- तुमने कभी किया है यह सब?

तू उसने कहा- उसका बॉय फ्रेंड था लेकिन सेक्स नहीं किया, किस किया था उस के साथ।

मैं उसके पास जा कर बोला- कभी दिल करता है सेक्स करने का ?

तो वो शरमा गई और कहने लगी- मैं चलती हूँ अब ! अम्मी इंतज़ार कर रही होगी !

मैंने कहा- तुमने जवाब नहीं दिया ?

तो वो अचानक मेरे सीने से चिपक गई और बोली- प्यासे को पूछ रहे हो कि पानी चाहिए?

बस मुझे यह मौका मिला और मैं उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर चूसने लगा। काफ़ी देर तक चूसने के बाद उसने मेरी शर्ट खोल दी और मैंने उसकी टी-शर्ट उतार फेंकी। अब मैं अंडरवीयर में था और वो ब्रा और पैंटी में थी। अब मैंने उस की ब्रा और पैंटी को भी उतार फेंका और उसने मेरा अंडरवीयर उतार फेंका। अब हम दोनों एक दम नंगे थे मैंने उसे मेरा लंड चूसने को कहा तो उसने लण्ड मुँह में ले लिया। कुछ देर चूसने के बाद मैंने उसे बिस्तर पर लेटने को कहा और टाँगें चौड़ी करने को कहा। उसने वैसा ही किया तो उसकी चूत एकदम मेरे सामने थी- एकदम गुलाबी और मस्त !

मैं पागल की तरह उसकी चूत पर टूट पड़ा और चाटने लगा। मैंने काफ़ी देर उसकी चूत चाटी। वो पागलो की तरह करने लगी- आआऽऽ आआआह उईईईईई ई आइऽऽऽ

फिर उसने धीरे से कहा- अब चोद दो मुझे ! मुझे चोद कर अपनी बना लो !

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और हल्का सा धक्का मारा तो लंड का टॉप उसकी चूत में चला गया।

वो चीख पड़ी, मैंने जल्दी से अपने होंठ उसके होंठों पर रखे फिर मैंने उसे समझाया- तुम कुंवारी हो न ! इस लिए दर्द हो रहा है !

तो उसने कहा- कुछ करो ! बर्दाश्त नहीं हो रहा ! बहुत दर्द हो रहा है।

मैं उसके ऊपर से उठा और लण्ड पर तेल लगा कर फिर उसकी चूत में डाला तो लंड एक धक्के के साथ आधा अन्दर चला गया। फिर वो चीखी लेकिन इस बार मैंने जल्दी से होंठ लगा दिए और हल्के- हल्के धक्के मारने लगा। लगा कि उसका दर्द भी कम होने लगा और वो भी गांड उछाल उछाल के मजे लेने लगी। काफ़ी देर ऐसे करने के बाद मैंने उसे अपने ऊपर आने को कहा तो वो फटाफट ऊपर आ गई और गांड उछाल उछाल कर धक्के मारने लगी। उसकी गांड काफी बाहर निकली हुई थी।

फिर मैंने उसे कहा- घोड़ी बन जाओ ! मुझे ऐसे चोदना है तुम्हें !

तो वो मस्त आवाज़ में आआऽऽ आआअह उईईईईई करके मजे लेते हुए घोड़ी बन गई। जैसे ही वो घोड़ी बनी, मैं उसकी चिकनी चूत में लंड डाल कर धक्के मारने लगा और वो मस्त आवाजें निकालने लगी।

उसने कहा- मैं जाने वाली हूँ ! मेरी चूत से पानी निकल रहा है ! उईईईईन आआआअह ईईईईईईह ऊईऽऽ माऽऽ आई लव ऊऊऊऊऊऊऊ !

वो झड़ गई और मैंने अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और तब मैंने उसे कहा- पहले लंड का पहला पानी लेने के लिए तैयार हो जाओ !

और मैंने दो और झटके मारे और पानी उसकी चूत में डाल दिया। फिर उसने लंड को चाट कर साफ़ किया और हम दोनों नहाने चले गए।

इस तरह हम दोनों की चुदाई का सिलसिला कई महीनों तक चलता रहा। मैंने कई दफा उसकी गांड भी मारी।

लेकिन दोस्तो, अब मैं वापिस भारत आ गया हूँ क्यूँकि मेरी कंपनी अब मुझे कनाडा भेजने वाली है। वो नेट पर मेरे से बात करती है और मुझे याद करती है।

[email protected]

प्रकाशित: मंगलवार 16 अगस्त 2011 11:53 pm

 

PDF पीडीएफ प्रारूप में इस कहानी को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

नवीनतम कथाएँ