किराएदार-9

, 24 December 2010


लेखिका : उषा मस्तानी

रजनी उठी और उसने मुस्करा कर मुझे देखा और जमीन पर बैठते हुए मेरा कुरता ऊपर उठाकर लोड़ा मुँह में ले लिया और एकाग्रता से लोड़ा चूसने लगी। कुछ देर बाद मैंने उसे हटा दिया और मुंडेर पर हाथ रखकर घोड़ी बना दिया। उसने टांगें फ़ैला ली थीं, चूत पीछे से चांदनी रात में साफ़ दिख रही थी। मैंने लोड़ा उसकी चूत के द्वार पर पीछे से लगा दिया, एक जोर का झटका देते हुए उसकी चूत में पेल दिया। आराम से लोड़ा अंदर तक घुस गया, रजनी चुदने लगी। चुदने में वो वो पूरा सहयोग कर रही थी, अपनी गांड आगे पीछे हिलाते हुए चिल्ला रही थी- चोद हरामी चोद।

मैं भी उत्तेजित होकर एक कुतिया की तरह उसे पेल रहा था और बुदबुदा रहा था- रांडों की रांड ले खा ! याद रखेगी कि किसी चोदू ने तेरी चोदी थी।

10 मिनट तक इसी तरह वो चुदती रही, उसके बाद बोली- थोड़ी गांड भी पेल दे ! पता नहीं फिर कब चुदने का दिन आएगा।

मैंने लंड बाहर निकाल लिया।

रजनी बोली- पहले तुम दो तीन उंगली कर रास्ता बना लो, फिर चोदना।

मैंने एक एक करके 2 उंगलियाँ उसकी गांड में घुसा दीं और 10-12 बार मालिश कर दी अब उसकी गांड चुदने को तैयार थी।

रजनी ने मुड़कर लंड पर ढेर सारा थूक डाल दिया और हाथों से उसे सुपाड़े पर मल दिया, बोली- अब घुसा दो, धीरे धीरे चोदना, बड़ा दर्द होता है।

मैं गांड में डालने को उतावला हो रहा था, रजनी फिर झुककर घोड़ी बन गई, दम लगाते हुए मैंने लोड़ा उसकी गांड में घुसाना शुरू कर दिया। ओई उह ओइ ओह की तेज दबी सी आवाज़ निकली। उसकी गांड में अंदर तक लंड घुस चुका था।

मैंने धीरे धीरे उसकी गांड मारनी शुरू कर दी। सुरेखा मीठे दर्द वाली सिसकारियां भरने लगी। उसकी चूचियों को दबाते हुए मैंने गांड में लंड की स्पीड बढ़ा दी, बड़ा मज़ा आ रहा था।

रजनी की गांड 5 मिनट तक चुदती रही, इसके बाद वो मेरे वीर्य से भर गई।

हम दोनों नीचे आ गए और रजनी के कमरे में एक दूसरे से चिपक कर सो गए। रजनी और मैं सुबह सुबह 7 बजे उठे और एक दूसरे की बाहों में चिपक गए, मेरा लंड सुरेखा की फुद्दी में घुस गया। एक दूसरे के बदन को चुमते हुए सुबह की चुदाई का मज़ा लिया, इसके बाद 8 बजे रजनी ने नाश्ता बनाया और मैं खा पीकर ऑफिस चला गया।

दो दिन बाद सुरेखा का लाइब्रेरी ऑफिसर के लिए इंटरव्यू था। सुरेखा भाभी के साथ इंटरव्यू देने जा रही थी, मैंने कहा- 2-3 फोटो रख लो !

सुरेखा अंदर गई, एक प्लास्टिक का बैग ले आई और अपनी फोटो निकालने लगी। तभी मेरी नज़र एक पोस्टकार्ड साइज़ फोटो पर गई जो मैंने 3-4 साल पहले अपनी MBA की पढाई ख़त्म करने के बाद खिंचवाई थी।

मैंने उससे पूछा- यह कहाँ से आई तुम्हारे पास?

सुरेखा सकपका गई और बोली- तुम्हारे कमरे से उठा ली थी।

और वो तेजी से अपनी फोटो निकाल कर वहां से चली गई।

मैंने सोचा कि मेरे पास तो यह फोटो यहाँ है नहीं, फिर? मैंने सर को झटका दिया और ऑफिस चला गया।

भाभी की मदद से सुरेखा इंटरव्यू दे आई और सेलेक्ट हो गई। 15 दिन बाद सुरेखा को ज्वाइन करना था। अरुण को जब यह बात पता चली तब अरुण ने दारु पीकर उसकी पिटाई कर दी। 15 दिन निकल गए।

अरुण ने सुरेखा को नौकरी नहीं करने दी। इस बीच रजनी की शादी तय हो गई और वो चली गई। अरुण दिन पर दिन दारु की लत से कमज़ोर होता जा रहा था। एक दिन उसकी 2-10 बजे की शिफ्ट थी रात को वो घर नहीं आया कोई नई बात नहीं थी, दारु के नशे में कई बार वो अड्डे पर ही सो जाता था। लेकिन अगले दिन भी 2 बजे तक नहीं आया, सबको चिंता हुई पता किया तो पता चला दारु के अड्डे पर जहरीली शराब पीने से 20 लोगों की तबियत खराब हो गई थी सब लोग अस्पताल में भरती हैं।

जब हम लोग अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि अरुण और 2 लोग मर चुके हैं, उसने ज्यादा ही शराब पी ली थी।

सुरेखा बेहोश हो गई थी, सुरेखा के घर से कोई नहीं आया था, अरुण के एक मामा आए थे, सब काम 3 दिन में ख़त्म हो गया।

सुरेखा की तबियत खराब रहने लगी।

एक दिन उसने मुझसे रोते हुए कहा- मुझे लाइब्रेरी की नौकरी दिला दो।

मैंने अपने पूरे प्रयास के बाद उसे वो नौकरी दिला दी। सुरेखा की गाड़ी चल निकली। तीन-चार महीने में वो सामान्य हो गई। उसने दुबारा सुबह बेफिक्र होकर नहाना शुरू कर दिया।

एक साल बाद मेरा ट्रान्सफर प्रमोशन पर पूना हो गया। सपना और सुरेखा दोनों दुखी थे। सुरेखा तो रो रही थी। लेकिन मुझे जाना था।

मैं पूना आ गया कम्पनी ने फ्लैट दे दिया था लेकिन मेरा मन नहीं लग रहा था। रोज़ रात को लगता कि सुरेखा अभी आएगी और नंगी होकर मेरी गोद में बैठ जाएगी, सुबह 5 बजे ही आँख खुल जाती और मन सुरेखा को नंगी नहाते देखने के लिए मचलने लगता। इसके अलावा दो बातें और मेरे मन में घूम रही थीं, पहली यह कि सुरेखा ने इतने आराम से मुझसे सम्बन्ध कैसे बना लिए जबकि भाभी ने बताया था कि थोड़ा सा छेड़ने पर ही पिछले किराएदार की उसने पिटाई कर दी थी, दूसरी यह कि मेरी 4 साल पुरानी फोटो उसके पास कहाँ से आई।

एक महीने बाद 2 दिन के लिए मैं घर गया, माँ बोली- अब शादी कर ले !

मैंने हँसते हुए कहा- तुम राजश्री से मेरी शादी करवा के मानोगी।

राजश्री मेरी माँ की सहेली की बेटी थी। 4 साल पहले जब मैं MBA की पढ़ाई में 4 महीने के लिए विदेश गया था तब पिताजी की पोस्टिंग नासिक हो गई थी, राजश्री और उसकी माँ हमारी पड़ोसन थीं। माँ के पैर की हड्डी टूट गई थी, सारा काम दोनों माँ बेटी ने संभाल लिया था।

मेरे वापस आने से पहले ही मेरे पिताजी ने ट्रान्सफर वापस औरंगाबाद करा लिया था। राजश्री के मां बाप से एक बार मैं भी मिला था लेकिन राजश्री को मैंने कभी नहीं देखा था।

माँ थोड़ा गंभीर हो गईं और बोलीं- हमारी और रीता आंटी की बहुत इच्छा थी कि तेरी और राजश्री की शादी हो जाए। मैंने तेरी एक फोटो भी उन्हें भेजी थी। लेकिन राजश्री एक टपोरी लड़के के साथ भाग गई और उसने शादी कर ली। भाईसाहब को हार्ट अटेक पड़ गया। रीता ने राजश्री से रिश्ता तोड़ लिया। रीता मन से उसकी याद नहीं निकाल पाई, उसकी याद मैं रीता अब बहुत बीमार रहने लगी है।

माँ आंसू पोंछती हुई बोली- बेटा समय बदल गया है, तुझे शादी अपने मन से करनी हो तो अपने मन से कर लेना, अगर हम लोगों को तेरी शादी करवानी हो तो हमें बता देना। हम तुझ पर शादी थोंपेंगे नहीं।

मैंने एक सीटी बजाई और बोला- माँ, तुम तो सेंटी होने लगीं, मैं बाहर घूम कर आता हूँ, फिलहाल शादी बाय बाय।

मैं वापस पूना आ गया लेकिन सुरेखा की याद दिल से नहीं निकल पाई। एक दिन दिल कड़ा करके मैंने अपनी माँ को बता दिया कि एक लड़की से शादी करना चाहता हूँ, मैंने यह नहीं बताया कि सुरेखा विधवा है माँ ने हाँ भर दी।

शाम को मैं गाडी से मुंबई पहुँच गया मुझे देखकर सब खुश हो गए। सुरेखा की आँखों में उदासी छा रही थी। मैंने आगे बढ़कर भाभी के सामने उसको बाँहों में जकड लिया और होंट चूस लिए, सुरेखा सकपका गई।

मैंने भाभी को बता दिया कि मैं सुरेखा से शादी कर रहा हूँ। 24 साल की सुरेखा की आँखों से ख़ुशी के आंसू टपक पड़े लेकिन सुरेखा शादी करने को राजी नहीं थी, सुरेखा बोली- मैं शादी तुमसे तभी करुँगी जब तुम्हारे माँ बाप राजी होंगे।

मैंने कहा- ठीक है, औरंगाबाद चलो।

सुबह 7 बजे हम लोग मुंबई से निकले, 3 बजे मैं घर पर था। मैंने सोच रखा था कि मैं माँ को ये नहीं बताऊँगा कि सुरेखा विधवा है। 24 साल की सुरेखा लड़की ही लगती थी।

मैंने घर की घंटी बजाई, माँ ने दरवाज़ा खोला, लेकिन यह क्या, सुरेखा को देखते ही उन्हें चक्कर आ गया। सुरेखा का भी चेहरा एकदम से सफ़ेद हो गया, सुरेखा ने आगे बढ़कर उन्हें संभाला और बोली- आंटी, मुझे माफ़ कर दो।

अब दिमाग घुमने की बारी मेरी थी। माँ 5 मिनट बाद संभल गई और बोलीं- राजश्री तेरा मुझ पर बहुत एहसान है लेकिन मेरे घर मैं तू तब ही आना जब तेरी माँ तुझे अपने घर में घुसने दे।

अब यह सुन कर मेरा दिमाग 5 मिनट के लिए सुन्न हो गया। माँ ने हमें घर में नहीं बैठने दिया।

मुझे लगा कि यह कहानी सुरेखा के घर जाने पर ही सुलझेगी। मैंने एक टैक्सी किराए पर ली और नासिक की तरफ निकल पड़ा। सुरेखा बुरी तरह से रो रही थी, सुरेखा बोली- मैं तुमसे शादी नहीं करुँगी, मुझे घर नहीं जाना, मेरी माँ बोली थी कि कभी घर आई तो मुझे मार देगी या खुद मर जाएगी।

मैंने उससे कहा- ऐसा कुछ नहीं होगा।

सुरेखा से मैंने कुछ बातें पूछीं उसने बताया कि उसके घर का नाम राजश्री है और जब तुम्हारा रिश्ता आया तब तक उसके शारीरिक सम्बन्ध अरुण से बन गए थे, उसकी कुछ गलत आदतों का भी पता चल गया था। तुम्हारे मम्मी पापा बहुत अच्छे हैं, तुम भी फोटो में बहुत सुंदर लग रहे थे, मन कर रहा था अरुण को छोड़ दूँ लेकिन मन में यह बात बैठी थी कि जिससे सील खुलवा लो, वो ही पति होना चाहिए। मैं अरुण के साथ भाग गई लेकिन तुम्हें मन से नहीं निकाल पाई, तुम्हारी फोटो मेरे पास तभी से है। और जब तुम किराएदार बनकर आए तो मैं अपने को नहीं रोक पाई और तुमसे सम्बन्ध बना बैठी।

सुरेखा का पूरा आंचल आंसुओं से भीग रहा था।

मैंने कहा- सील और शक्ल याद करके बने संबंध कुछ दिन के ही होते हैं, असली संबंध तो हम एक दूसरे से मानसिक रूप से कितना जुड़ते हैं, उससे होते हैं और न तुम अरुण को बदल पाईं न अरुण खुद को इसलिए यह संबंध तो स्थायी था ही नहीं।

राजश्री के घर नासिक हम लोग शाम 8 बजे पहुँच गए। घंटी बजने पर माँ ने दरवाज़ा खोला, माँ बहुत कमजोर हो रही थी, सुरेखा रो पड़ी, वो मुझे पहचान गई और बोली- राकेश तुम?

मैंने कहा- हाँ मैं !

सुरेखा को देखकर उनके भी आंसू आए और बोलीं- मैं इसे घर मैं नहीं आने दूँगी, इसके पापा कितने हंसमुख थे 4 साल पहले, अब तो मुरझा गए हैं, छोटी बहन की भी शादी नहीं हो पा रही है।

मैंने कहा- मेरी पत्नी को भी अंदर नहीं आने दोगी?

उनके चेहरे पर असमंजस के भाव आ गए। उन्होंने मुझे और सुरेखा को अंदर बुला लिया सुरेखा उनकी गोद में रोते हुए गिर पड़ी।

दस मिनट बाद मैंने सारी कहानी उन्हें बता दी। साथ साथ ही साथ यह भी बता दिया कि मेरी माँ तभी सुरेखा को अपनाएगी जब आप उसे अपना लेंगीं।

सुरेखा के पिताजी भी आ गए, मैं थोड़ी देर के लिए घर से बाहर चला गया। मैं 9 बजे वापस आ गया, राजश्री की माँ ने मेरे फ़ोन से रुंधे हुए गले से घर मेरी माँ को फ़ोन किया और रोते हुए सिर्फ एक ही बात बोल पाईं- दीदी, राजश्री को अपने घर में जगह दे दो।

उसके बाद वो 10 मिनट तक फ़ोन पर रोती रहीं।

मैंने उनसे फ़ोन ले लिया, मेरी माँ बोली- बेटा, कल हम नासिक आ रहे हैं।

अगले दिन मेरे माँ बाप आ गए मेरी और सुरेखा की शादी दोनों परिवार की सहमति से हो गई।

शादी के 15 दिन बाद सब सामान्य हो गया, हम दोनों पूना आ गए। सुरेखा रोज़ रात को पहले की तरह नंगी होकर मेरी गोद में बैठने लगी, सुरेखा से छुपकर मैंने एक कैमरा बाथरूम में लगा दिया ताकि जब वो नहाने जाए तो उसकी नंगी चूचियाँ और चूत नहाते हुए देख सकूं।

आज तक सुरेखा को यह बात नहीं पता चली कि मैं सुबह उसकी नंगी चूत और चूची के दर्शन करता हूँ।

कहानी की घटनाएँ, नाम, जगह काल्पनिक हैं, किसी वास्तविक घटना से न जोड़ें।

[email protected]

Download PDF पीडीएफ प्रारूप में इस कहानी को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

comments powered by Disqus