शरारती शायरी-1

, 28 July 2013


उसके लिए हमने हर ख़ुशी को लौटने को कहा..

पर उसने ‘हमें ही लौटने को कहा’

हमने कहा

न करो हम पे ऐसा सितम

उसने कहा

हमारा पहले से ही है अपना बलम

***

शादी नहीं आसान

बस इतना समझ लीजिए

कि

फिनाइल की गोली है

और चूस कर खानी है..

***

वो हमें देख कर यों मुस्कुराए,

इश्क में हमारे भी कदम डगमगाए…

दिल की बात कहने ही वाले थे,

तभी उसके बच्चे मामा मामा चिल्लाए…!

[email protected]

Download PDF पीडीएफ प्रारूप में इस कहानी को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

comments powered by Disqus