हमारी मालकिन दिव्या

, 20 October 2008


प्रेषिका : शोभा शर्मा

रेहाना और कपिल शादी के बाद बहुत खुश थे। कपिल जॉब के लिए सुबह निकलता तो देर शाम को वापस आता।

एक दिन जब वह शाम को लौटा तो उसने देखा कि उसके घर में रेहाना के साथ एक 32 साल की सांवली सी औरत थी।

कपिल ने पूछा तो रेहाना ने बताया कि इसका नाम दिव्या है और इसे घर का काम करने के लिए रखा है।

दिव्या थी तो नौकरानी लेकिन कपिल को उसका अंदाज कुछ अलग ही लगा।

कुछ ही दिनों में उसे लगने लगा कि जब से दिव्या आई है, रेहाना उसे महत्व नहीं दे रही है।

उसने कुछ पल अपनी रेहाना के साथ बिताने के लिए आउटिंग का प्रोगाम बनाया। जैसे ही पैकिंग हुई तो वह चौंक गया, दिव्या भी उनके साथ जा रही थी।

कपिल ने ऐतराज किया तो रेहाना ने उसे चुप करा दिया।

तीनों कार से शिमला की हसीन वादियों में पहुंचे। कपिल के दोस्त का फार्महाउस खाली पड़ा था। शानदार फार्महाउस पर पहुंचकर कुछ पल के लिए आराम करने के बाद रेहाना के साथ कपिल घूमने निकल गया।

रात को कपिल ने रेहाना को चोदने की तैयारी की लेकिन रेहाना ने उसे हाथ नहीं धरने दिया। रात को गहरी नींद में सोये कपिल की आंख अचानक से फटाक की आवाज के साथ खुल गई। उसने देखा तो बगल में रेहाना नहीं थी। वह बिना आवाज किये दरवाजे पर पहुँचा। बाहर का नजारा देखते ही उसके होश उड़ गए।

रेहाना पूरी तरह से नंगी चारों हाथ पैरों पर कुतिया की तरह चल रही थी पीछे से जींस और टॉप में सजी-धजी दिव्या हाथ में चमड़े का डेढ़ फीट लम्बा और 3 इंच चौड़ा पट्टा लेकर चल रही थी।

फटाक के साथ जैसे ही दिव्या ने पट्टा रेहाना के बांये चूतड़ पर मारा, वह चिंहुक उठी और फर्श पर बिछ सी गई लेकिन जल्द ही उसके चूतड़ फिर से हवा में थे। उसके मुंह में जूता साफ करने का ब्रुश था जिसे वह लेकर कोने में रखने जा रही थी। दिव्या तेजी के साथ पट्टे को रेहाना के चूतड़ों पर मार रही थी और बोल रही थी- हरामजादी ! तू मेरी गुलाम होकर मेरी पोजीशन नौकर की बनाकर रखती है। तुझे और तेरे कुत्ते पति को मैं अपना गुलाम बनाना चाहती हूं। मैं अब चुप नहीं रहूंगी छिनाल की बच्ची। कल उसे सच बताना होगा।

जी मालकिन ! रोते हुए रेहाना ने कहा।

यह देखने के बाद गुस्सा आने की जगह कपिल को मस्ती आने लगी। इधर रेहाना दिव्या के पैरों को चाट रही थी तो दूसरी ओर कपिल का 10 इंची लंड भी तनतना रहा था। दिव्या ने रेहाना को अपने पीछे आने का इशारा किया। रेहाना कुतिया की तरह ही चारों हाथ पैरों पर चलते हुए दिव्या के कमरे में चली गई। कपिल ने खिड़की के सहारे अंदर का नजारा देखना शुरू कर दिया। दिव्या ने बैड के पास ही रेहाना को मुर्गा बना दिया और पांच मिनट के बाद मुर्गा परेड का हुकुम दिया।

नाजुक सी लगने वाली रेहाना ने अपने कानों को सख्ती से पकड़ रखा था। और धीरे धीरे वह कमरे का चक्कर लगा रही थी। इस बीच दिव्या ने 12 इंची नकली लंड को फिट कर लिया। मुर्गी बनी रेहाना

को अपनी गांड हवा में उठाने का हुकुम देने के बाद दिव्या ने अपना नकली लंड उसकी चूत में डालना शुरू कर दिया। मुर्गा बना होने की बजह से रेहाना की टांगे कांप रही थी।

पहले ही धक्के में वह दूर जा गिरी लेकिन फुर्ती से उठने के बाद वह फिर से मुर्गा बन गई। दिव्या ने तेजी से धक्के लगाने शुरू कर दिये। इधर रेहाना चुद रही थी तो उधर कपिल गुलामी का मजा लेने के लिए मरा जा रहा था।

रेहाना की तूफानी चुदाई के बाद दिव्या ने उसे आज़ाद कर दिया। कपिल तेजी से लपक कर अपने बिस्तर में अनजान बनकर सो गया।

रेहाना जब कमरे में आई तो पूरे कपड़ों में बिल्कुल ऐसे जैसे उसके साथ कुछ हुआ ही न हो। कपिल को हिलाडुलाने के बाद वह बिस्तर में घुस गई।

सुबह को सब कुछ बदला हुआ था। दिव्या और रेहाना के चेहरे को देखकर ऐसा कुछ नहीं लग रहा था कि रात क्या हुआ था। रेहाना गाउन पहने थी, दिव्या सलवार सूट में थी।

डायनिंग टेबिल पर बैठे हुए रेहाना ने दिव्या से कहा- जरा कपिल को जूस दे देना।

हां क्यों नहीं ! चलो अपनी गांड उठाओ और कपिल को जूस दो।

ओ के ! मैं पास में ही हूँ, मैं ही दे देती हूँ ! जैसे ही रेहाना खड़ी हुई, दिव्या चीखते हुए बोली- कुतिया, तू कम सुनती है। चल अपना गाउन उतार और नंगी होकर जूस को लेकर आ।

कपिल हैरान रह गया।

रेहाना ने डोरी खोलकर गाउन उतार दिया और नंगी होकर गिलास में जैसे ही रेहाना ने जूस भराम दिव्या ने नया फरमान सुना दिया- कुतिया अब गिलास को अपनी छातियों में दबाकर अपने खसम के पास लेकर आ।

कपिल मूर्तिवत सा हो गया था।

जूस का गिलास ले लो कपिल ! नहीं तो तुम्हारी बीवी की छातियां जम जायेंगी।

कपिल ने जूस ले लिया।

जब तक तुम जूस पीओगे, रेहाना तुम्हारे लंड को चूसेगी !

और कपिल को नंगा होने का हुकुम दिया। कपिल नंगा हो गया। दिव्या ने उसे रेहाना के मुंह में पूरा लंड डालने को कहा। कपिल ने पूरा लंड रेहाना के मुँह में डाल दिया। रेहाना गों गो करने लगी। अभी कपिल का लंड बाहर आ ही रहा था कि दिव्या ने चमड़े के पट्टे को कपिल के चूतड़ों पर मार दिया। कपिल का लंड फिर से सरसराता हुआ रेहाना के मुँह में चला गया। एक मिनट में ही कपिल झड़ गया।

अब मालकिन दिव्या ने दोनों गुलामों को अपने पैर चाटने का हुकुम दिया- अब से तुम दोनों मेरे गुलाम हो !

जी मैडम ! दोनों ने एक साथ कहा।

shobhabitch@yahoo.co.in

Download PDF पीडीएफ प्रारूप में इस कहानी को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

comments powered by Disqus