Sex Stories Archive for 2015

सुपर स्टार-2 HOT!

पहले झारखण्ड के कोडरमा शहर में चार कमरों के मकान में रहता था.. मेरा एक खुशहाल मध्यम वर्गीय परिवार था। मम्मी.. पापा.. मैं और मेरी एक बहन.. कितने खुश थे हम सब.. मैं यूँ तो तृषा के घर अक्सर जाया करता था। आज तो दिन ही खराब था..

मेरी लेस्बीयन लीला-4 HOT!

जब जवान हुई.. तो लोगों की नजर कपड़ों के अन्दर तक चुभने लगीं, उनकी कामुक नजरों को भांप कर मेरे अन्दर एक मीठा दर्द उठने लगा। एक रात मैं अपनी दीदी के साथ लेटी थी… मैं उनके बदन को सहलाना चाहती थी, तो हम दोनों बहनों ने क्या क्या किया...

कपड़ों की धुलाई के साथ चुदाई भी -3 HOT!

अपने लिंग को शांत करने के लिए जब मैं हस्तमैथुन करके बाथरूम से बाहर निकला तब देखा की प्रीति बाथरूम के दरवाज़े के पास खड़ी मुस्करा रही थी। उसकी मुस्कराहट देख कर मैं समझ गया कि उसने मेरे द्वारा बाथरूम के अंदर करी गई हर क्रिया को देख लिया था। उसके बाद प्रीति ने धुले […]

सेक्स के प्रति सोच में आमूल परिवर्तन की जरूरत HOT!

हमें अब सेक्स के प्रति सोच में आमूल परिवर्तन करना जरूरी है। इस बात को ध्यान में रखते हुए मैं किशोरों और युवाओं के लिए कुछ व्यावहारिक सुझावों को प्रश्नोत्तर के माध्यम से प्रस्तुत कर रहा हूँ।

मेरी माँ-बेटी को चोदने की इच्छा-39

दोस्त की मम्मी को चोदने के बाद उसकी बहन चूत चुदवाने को बेकरार थी… मैंने माया और रूचि से अलग अलग प्लान बनाया सबके साथ रहते हुए मज़ा करने का… उनके घर पहुँचने के बाद क्या हुआ... कहानी के इस भाग में पढ़िए...

बहन का लौड़ा -12

नाटक मंडली वाला राधे मीरा की बहन राधा बन कर गया तो राधे उसे कैसे मनाता है पोल खोलने से… उसके बाद आधी रात में चुदास के मारे मीरा ने राधे का लण्ड चूसा, उधर नीरज किसी कच्ची कली को फ़ांसने के चक्कर में था… इस भाग में पढ़िये…

सुपर स्टार-1 HOT!

'चारों तरफ हज़ारों कैमरों की जगमगाती चमक, जहाँ तक नज़रें जाए बस पागल होती बेकाबू सी भीड़ और उस भीड़ को काबू करने में लगे हुए पुलिस वाले.. कानों में गूंजता हुआ बस आपका ही नाम.. हर चौराहे पर बड़ी-बड़ी तस्वीरें.. हर खबर की सुर्ख़ियों में बस आपका ही ज़िक्र..'

मेरी लेस्बीयन लीला-3 HOT!

जब जवान हुई.. तो लोगों की नजर कपड़ों के अन्दर तक चुभने लगीं, उनकी कामुक नजरों को भांप कर मेरे अन्दर एक मीठा दर्द उठने लगा। एक रात मैं अपनी दीदी के साथ लेटी थी… मैं उनके बदन को सहलाना चाहती थी॥ क्या मैं ऐसा कर पाई?

कपड़ों की धुलाई के साथ चुदाई भी -2

पढ़ाई के वक्त मैंने कमरा किराये पे लिया तो कपड़े धोने, प्रेस करने के लिए एक लड़की आने लगी। मेरे अच्छे बर्ताव से वो मेरे साथ खुल कर बातें करने लगी थी... पानी की कमी के कारण वो मेरे घर मे सारे कपड़े धोने लगी। एक दिन मैं जल्दी घर आ गया तो… इस कहानी में पढ़िए !

बिरहा की रातें सूनी सड़कें HOT!

On 2015-05-29 Category: प्यार-मुहब्बत Tags:

बिरहा की रातें, सूनी सड़कें और गमों की आहटें इन पर चलते चलते सुनी हैं मैंने अपने पांवों से टूटते सूखे पत्तों की सरसराहटें बिरहा की रातें, सूनी सड़कें और गमों की आहटें एक भटका हुआ मुसाफिर हूँ मैं मेरी आहों में, मेरी निगाहों में बसी हैं तेरी चंद मुलाकातें महरूम रखते हैं मुझको तुझको […]

Scroll To Top